Hindi adult story

Hindi adult stories of चुदाई की कहानियाँ, सेक्स कहानी, चुदाई कहानी, Antarvasna ki hindi sex stories,Hindi sex kahani,Chudai kahani,Adult kahani,Hindi sex story,Chudai ki hindi story,Kamukta xxx story,Mastram ki adult stories,Kamasutra ki adult kahani,भाई बहन की सेक्स,माँ बेटे की चुदाई,अन्तर्वासना की सेक्सी कहानियाँ

रोज रात अविवाहित दीदी के साथ

Hindi xxx chudai kahani, दीदी की चुदाई Hindi sex stories, दीदी को चोदा Hot kahani, अविवाहित दीदी की प्यास बुझाई Real sex story, Avivahit didi ke sath mast chudai, बहन की चूत में भाई का लंड xxx desi kahani, दीदी के साथ चुदाई की कहानी, hindi sex kahani, दीदी के साथ सेक्स की कहानी, didi ko choda xxx hindi story, जवान दीदी की कामवासना antavasna ki hindi story, दीदी की चूचियों को चूसा, दीदी को घोड़ी बना के चोदा, 8″ का लंड से दीदी की चूत फाड़ी, दीदी की गांड मारी, दीदी की कुंवारी चूत को ठोका,

दीदी मुझसे बहुत बड़ी थी पर लगती एक दम सोलह साल की जवान थी। जिसे देखकर किसी का भी मन डोल जाए। मेरी दीदी के लंबे बाल थे और रंग एक दम गोरा था। चूची भी बहुत बड़ी थी। वो अक्सर मेरे सामने ही कपड़े बदल लेती थी। उस दिन उसने नीले रंग की साड़ी पहनी हुई थी। वो टाइम गर्मी का था। घरवाले सभी शादी में जा चुके थे। मैं घर पर अकेला ही था। वो जैसे ही घर पर आई तो बोली- आज गॅप गर्मी बहुत है जा तू घर का गेट बंद करदे और अपने कमरे का एसी चला दे। मैं गया और गेट बंद करके आया। मैंने अपने कमरे का एसी चला दिया। मेरी दीदी कमरे में आई और उसने एक दम अपना साडी का पल्लू हटा दिया। और कुर्सी पर बैठ गयी फिर उसने पूछा के मम्मी पापा कब गये? पर मैं तो उसके ब्लाउज से उसकी चूची को देख रहा था।

ब्लाउज इतना टाइट और हल्का था की उसकी सफेद ब्रा ब्लाउज के अंदर साफ दिख रही थी और चूची एक दम कसी हुई थी। मानो चूची ब्रा और ब्लाउज को फाड़ना चाहती हो। दीदी रात को भी ब्रा ही पहनकर सोती थी। दीदी मुझसे बोली तेरा ध्यान किधर है एक दम मैंने उनकी आँखो की तरफ देखा वो बोली मैं पूछ रही थी कि मम्मी पापा कब गये है? मैंने कहा- सुबह ही गये है। दीदी बोली- अच्छा चल मैं तेरे लिए कुछ बना देती हूँ। और दीदी उठी और उसने अपनी साडी उतार दी। उस का ब्लू पेटीकोट भी एक दम टाइट ही था। अब दीदी मुझे बिना साडी के बहुत अच्छी लग रही थी वो केवल अब ब्लाउज और पेटीकोट मैं ही थी। वो ब्लाउज और पेटीकोट मैं ही रसोई में चली गई। और मेरे लिए खाना बनाने लगी मैं भी रसोई में आ गया और खड़ा हो कर उसे देखने लगा। वो इधर उधर काम करते हुए चलती तो कभी वो मुझसे टकरा जाती कभी उसकी गांड तो कभी उसकी चूत मेरे लंड से टकरा जाती। अब तो बस मेरे मन में यही था कि मैं अपनी दीदी को चोद डालूँ पर डर रहा था कि कही वो मुझे डांटे नही।अब खाना तैयार था। वो खाना लेकर मेरे कमरे में आ गई और बोली- चल खाले। फिर मैं खाना खाने बैठ गया। दीदी मेरे सामने ही बैठ गयी और वो अपने पेटीकोट को थोड़ा ऊपर करने लगी। उसने अपना पेटीकोट घुटनो तक ऊपर किया और फिर नाड़ा खोल कर पेटीकोट टूंडी से नीचे करने लगी। पर उसने तो मेरी उम्मीद से ज़्यादा ही अपना पेटीकोट नीचे कर दिया था। अब मैं उसकी टूंडी और टूंडी से नीचे भी साफ देख सकता था। क्योंकि उसने पेटीकोट चूत से ऊपर ही कर रखा था। मुझे उसके चूत के ऊपर कुछ काला-काला सा नज़र आया। मैं समझ गया कि दीदी के भी बाल है पर उसने काट रखे है। और उसकी गौरी टांग भी सुन्दर दिख रही थी। जिन पर हल्के-हल्के बाल थे। फिर मेरा लंड भी खड़ा होने लगा था।यह सेक्स कहानी आप हॉट कहानी डॉट कॉम पे पड़ रहे है।मैंने खाना खाया तो वो बरतन लेने के लिए आगे झुकी तो मुझे उसकी बड़ी-बड़ी चूची के बीच की गहरी लाइन दिख रही थी। बस मैंने अपने मन पर काबू कर रखा था। फिर वो बर्तन लेकर रसोई मे गयी और मैं टी वी देखने लगा। दीदी वापस आई तो चाय बना कर लाई थी। एक कप चाय उसने मुझ को दी और दूसरे कप को लेकर मेरे सामने कुर्सी पर बैठ गई। और बोली आज तो गर्मी बहुत है तू इस एसी को ज़्यादा कूलिंग पर कर। मैंने एसी की कूलिंग और कर दी। फिर दीदी अपने ब्लू ब्लाउज के बटन खोलने लगी। मैं तो बस देख ही रहा था। मेरा लंड खड़ा होता गया। दीदी अपने ब्लाउज के बटन खोलकर हाथ ऊपर करके बैठ गई। अब मुझे उसकी ब्रा बिल्कुल साफ दिख रही थी। मेरी नज़र उसकी बगल पर पड़ी तो वहाँ पर बहुत छोटे-छोटे बाल थे। दीदी बोली चल सो जाएँ। और हम चाय खत्म करके बेड पर चले गये।

मैं बेड पर लेट गया और दीदी अपने ब्लाउज के बटन खुले ही छोड़ कर मेरे बराबर में लेट गयी। दीदी ने मुझसे पूछा कुछ परेशानी तो नही हो रही। मैंने कहा नही। मैंने दीदी से पूछा के घर भी आप ऐसे ही सोती हो। वो बोली कैसे? मैंने दीदी के ब्लाउज और ब्रा की तरफ इशारा किया। दीदी बोली हाँ जब घर पर कोई नही होता तो मैं अपने सारे कपड़े उतार कर सोती हूँ। फिर वो बोली यहाँ भी तो कोई नहीं है। मैं बोला मैं तो हूँ। वो बोली तू तो मेरा बेटा है। तुझसे कैसी शर्म। जब मैं तेरे सामने कपड़े बदल लेती हूँ तो अब क्या शर्म करो। फिर दीदी ने करवट बदली और दूसरी तरफ मुँह कर लिया। अब दीदी की गाँड मेरी तरफ थी। दीदी की गाँड ब्लू पेटिकोट में बहुत सुन्दर लग रही थी। दीदी बोली- चल सो जा सुबहा जल्दी उठना है। मैं बस चुप होकर दीदी की गाँड देखता रहा। फिर करीब दस मिनिट बाद,मैंने धीरे से अपनी पैंट उतार दी और दीदी  की तरफ मुँह करा और उसकी गाँड पर अपना लंड टेक दिया। दीदी ने भी अपनी गाँड और पीछे कर ली। और उसकी गाँड के छेद मे मेरे लंड के कारण उसका पेटीकोट हल्का सा चला गया। फिर मैं ऐसे ही धीरे-धीरे धक्के लगाने लगा। फिर मैंने एक हाथ दीदी के पेट पर रखा और धीरे-धीरे उसके चूत के ऊपर के भाग पर और टूंडी के अंदर अपनी उंगलियाँ घूमने लगा। जिससे दीदी जाग गई। और लेटे-लेटे ही बोली क्या कर रहा है,पीछे होकर सो ना। मैं ऐसे हो गया जैसे मैंने सुना ही नही। फिर दीदी ने मेरे हाथ पर अपना हाथ रख दिया और सोने लगी।यह सेक्स कहानी आप हॉट कहानी डॉट कॉम पे पड़ रहे है।मैंने फिर अपने हाथ से हरकत शुरु कर दी और दीदी के पीछे से धक्के लगाने शुरु कर दिए।दीदी बोली नही मानेगा। मैं फिर चुपचाप लेट गया।दीदी ने एक हाथ पीछे किया और अपनी गांड से मेरा लंड निकाला और अपनी गांड पर हाथ रख लिया। फिर थोड़ी देर बाद मैंने अपना लंड निकर मे से निकाला और दीदी के हाथ पर रख दिया। दीदी ने उस पर हाथ रखा। फिर दीदी ने अपनी गांड से हाथ हटा लिया। शायद दीदी को मेरे लंड की लंबाई और मोटाई पसंद आ गयी थी। फिर मैंने धीरे से उनका पेटीकोट जाँघ तक ऊपर कर दिया ओर पीछे से पूरा कमर तक। फिर मैंने अपना लंड उनकी गांड पर जैसे ही रखा तो दीदी ने भी पीछे को झटका दिया। मैं समझ गया कि दीदी अब गरम हो चुकी है। पर सोने का नाटक कर रही है। फिर मैंने अपने आपको पीछे किया और दीदी की दोनो जाँघो के बीच में थूक लगाया और दोनो जाँघो में अपना लंड फसा दिया। दीदी ने भी अपनी दोनो जाँघो को कसकर भींच लिया। अब मेरा लंड उनकी दोनो जाँघो को एक गांड की तरह ही चोद रहा था।

फिर मैंने एक हाथ दीदी के आगे से उसके पेटीकोट में डाल दिया। और उसकी चूत पर ले जाने लगा तोदीदी ने अपनी ऊपर की जाँघ को थोड़ा सा ऊपर उठा दिया। फिर मैंने अपनी दीदी की चूत को छुआ तो उसमें से चिकना पानी निकल रहा था। फिर मैं ने दीदी की जाँघो में ज़ोर ज़ोर से धक्के लगाने लगा। और एक हाथ से मैं उसकी चूत को सहलाता रहा और उसकी चूत से चिपचिपा पानी निकलता रहा था। अब दीदी को भी मज़ा आ रहा था। पर वो बोली नही और उसने अपनी टांग उठाकर मेरे पीछे रख दी। और मेरे लंड को हाथ से पकड़कर एक इशारा सा किया। और मेरा लंड उसकी चूत से चिपक गया पर अंदर नहीं गया। मुझे ऐसे ही मज़ा आ रहा था। इसी लिए मैंने कोशिश भी नहीं की उसकी चूत में लंड डालने की।यह सेक्स कहानी आप हॉट कहानी डॉट कॉम पे पड़ रहे है।मैने चूत से लंड हटाकर उसकी गांड के बीच मे रख दिया और धक्के लगाने लगा। दीदी फिर पहले की तरह हो गई। मैंने फिर एक हाथ उसके आगे से उसके पेटीकोट में डाला और चूत की खाल पकड़ कर खींचने लगा। इससे दीदी को दर्द हुआ और वो बोली बहुत देर हो गई तुझे। तू अब सो जा, सुबह जाना नहीं है क्या? मैंने फिर अनसुना कर दिया। मैं अब की बार धक्के लगता रहा। फिर मैंने दीदी की चूत को टटोलना शुरू किया और उसकी चूत को चौड़ा करके सहलाना शुरू कर दिया। अब दीदी को बहुत मज़ा आ रहा था क्योंकि वो भी मेरे लंड पर अपनी गांड का ज़ोर लगा रही थी मानो वो मेरा लंड अंदर करना चाहती हो। अब मैं झड़ने वाला था। तो मैंने कई झटके ज़ोर-ज़ोर से मारे और दीदी की चूत को ज़ोर से रगड़ने लगा। दीदी की चूत से एक दम गरम पानी सा निकाला और दीदी ने मेरा हाथ कसकर पकड़ लिया। जिससे मैं रुक जाऊं पर मैं रूका नहीं मैं उसकी चूत को कोशिश करके जब तक रगड़ता रहा जब तक के मेरा पानी उसकी गांड के बीच में ना निकल गया। और मैं धक्के मारता रहा, दीदी भी अब धक्के मार रही थी। जिससे मैं जल्दी झड़ जाऊं और उसे छोड़ दूँ।

मैंने एक ज़ोर का झटका दिया। तो दीदी ने भी ज़ोर से झटका दिया। और मेरा सारा पानी उसकी गांड के बीच में ही निकल गया। मैं थोड़ी देर रुका तो दीदी ने मेरा लंड हाथ से ऐसे ‍‍‍निकाल दिया जिससे कि मुझे लगे कि उसे कुछ पता ही नही है। पर मैं समझ गया था कि दीदी को सब पता है।मैं भी दूसरी तरफ मुँह करके लेट गया। फिर मैंने दीदी की साइड मुँह किया। तो मैंने देखा के दीदी का पेटीकोट पीछे से गांड से ऊपर है और आगे से जाँघ तक है। फिर मैं आँख खोलकर देखता रहा की दीदी क्या करेगी? क्योंकि वो शायद मेरे सोने का इंतज़ार कर रही थी। क्योंकि वो मेरे जगाने पर सही करती तो मुझको पता चल जाता की उसे सब पता है। इसीलिए,मैं चुपचाप उसकी तरफ मुंह करके पड़ा रहा जैसे मैं सच में सो गया हूँ। फिर कुछ देर बाद दीदी उठी और उसने मेरे सर पर अपना हाथ फेरा और बेड से खड़ी हो गई। फिर उसने अपना पेटीकोट नीचे किया और और पेटीकोट को देखने लगी। पेटीकोट उसके और मेरे पानी से बहुत गीला हो चुका था। और वो बाथरूम में चली गई जो मेरे कमरे में ही था। यह सेक्स कहानी आप हॉट कहानी डॉट कॉम पे पड़ रहे है।उसने जैसे ही बाथरूम का गेट बंद किया। तो मैं भी बाथरूम के पास गया और गेट के एक छेद में से देखने लगा। मैंने गेट में एक छेद कर रखा था। जिससे की कोई लड़की या औरत मेरे बाथरूम का इस्तेमाल करे तो मैं उसे देख सकूं। मैंने देखा दीदी अपने आप को देख रही थी। और अपनी चूची को ब्रा के ऊपर से मेरा नाम लेकर दबा रही थी। फिर उसने अपना पेटीकोट उठाया और गांड के पीछे हाथ लगाकर देखा। उसके हाथ पर मेरा पानी आ गया था। तो उसने हाथ को देखा और फिर उसे चाटा भी फिर उसने अपनी चूत से भी हाथ से अपना पानी लिया और उसे भी चाटा। फिर वो पेटीकोट को कमर तक ऊपर करके बैठ गयी। फिर उसने मग्गे में पानी लिया और अपनी चूत और गांड को धोया। फिर खड़ी होकर उसने अपने पेटीकोट मुंह से पकड़ा और और अपनी टांगों से मेरा और अपना पानी धोया। फिर उसने बाथरूम वाला एक टोवल लिया और अपनी चूत, गांड और टांग पूँछी। फिर उसने पेटीकोट नीचे किया और शीशे में देखने लगी। फिर वो बाहर आने के लिए चल दी।

मैंने घड़ी देखी रात का एक बज चुका था। और मैं बेड पर आकर लेट गया और सोने का नाटक करने लगा। दीदी आई और मेरे बराबर में आकर लेट गई। मैंने देखा दीदी के ब्लाउज के बटन अभी भी खुले और पेटीकोट टूंडी से नीचे था। मैं दीदी की तरफ ही मुंह करके सो रहा था। दीदी ने भी मेरी तरफ मुंह कर लिया। तो उसके पेट से मेरा लंड अंडर‍वियर के अंदर से टकरया तो मेरा लंड खड़ा होने लगा। मैंने फिर अपना लंड निकाला और उसके मुलायम और गोरे पेट पर रगड़ने लगा। दीदी बोली तेरे पास लेट कर तो मैं दुखी हो गयी। तू नहीं सोने देगा। मैं चुप लेट गया। दीदी थोड़ी ऊपर को हो गई जिससे मेरा लंड उसकी गहरी टूंडी में चला गया। मैं दीदी का मतलब समझ गया था कि उसको मेरा लंड पसन्द आया और अब वो मुझसे फिर मज़ा लेना चाहती। यानी अपनी टूंडी और पेट को चुदवाना चाहती है। मैं उसकी टूंडी में लंड और अंदर कर के धक्के मारने लगा। अबकी बार मैनें उसकी एक साइड की ब्रा भी ऊपर करदी। और उसकी चूची को मुंह से चूसने और चाटने लगा बीच में उसे काट भी लेता तो वो दर्द से आह सी भरती। यह सेक्स कहानी आप हॉट कहानी डॉट कॉम पे पड़ रहे है।फिर मैने पीछे हाथ करके उसके पेटीकोट में हाथ डाल दिया। और उसकी गांड को दबाने लगा। मैं अबकी बार जल्दी झड़ गया और सारा पानी मैंने दीदी की टूंडी में ही छोड़ दिया। जिससे दीदी का पेट गीला हो गया। फिर मैं सीधा हो कर लेट गया। और दीदी के पेट पर हाथ फेरने लगा। जिससेदीदी के पेट पर मेरा पानी सारे में फ़ैल गया।फिर मैं चुपचाप लेट गया। दीदी ने सोचा मैं सो गया हूँ। तो उसने अपनी ब्रा ठीक की और सो गयी सुबह को जब मैं उठा तो दीदी घर की सफाई कर रही थी। उसने अपना ब्लाउज उतारा हुआ था। वो केवल ब्रा और पेटीकोट में ही थी। पर हम एक दूसरे से नज़र नही मिला पा रहे थे। फिर नहा कर हम शादी में चले गये। इसके बाद दीदी ने मुझे कई बार चोदा और दीदी ने मुझसे चुदवाया।कैसी लगी दीदी की चुदाई स्टोरी , अच्छा लगी तो शेयर करना , अगर कोई मेरी दीदी की चूत और गांड की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/KomalDidi

The Author

Hindi adult sex stories

चुदाई की कहानियाँ,हिंदी सेक्स कहानियाँ,हिंदीएडल्ट कहानी, chudai kahani, sex kahani, hindi adult stories, mastram ki adult story, hindi sex stories, desi xxx kahani, desi sex kahani, indian sex story, hindi adult story, chudai ki story, hindi xxx stories,भाई बहन की सेक्स कहानी,हिंदी सेक्स स्टोरी,अन्तर्वासना की कहानी,कामुकता कहानी,kamvasna ki stories,
Chudai ki hindi adult story © 2018 Frontier Theme